हिसार । ‎हिसार जिला कोर्ट ने पुराने नारनौंद उपमंडल के बड़छप्पर दोहरे हत्याकांड मामले में 10 साल बाद फैसला सुनाया है। कोर्ट ने दोहरे हत्या कांड के मामले में 12 लोगों उम्रकैद की सजा सुनाई है। इस मामले में कुल 15 लोगों को आरोपी बनाया गया था। इसमें से दो की मौत हो गई, जबकि एक नाबालिग होने की वजह से बरी हो गया था। इस फैसल के ‎लिए कोर्ट ने 15 फरवरी तिथि निर्धारित की थी, ले‎किन फैसले की कॉपी तैयार नहीं होने के कारण सोमवार का ‎दिन निर्धारित किया गया था। एडीजे गुरविंद्र सिंह वधवा की अदालत ने 11 फरवरी को उपरोक्त मामले में 12 लोगों को दोषी करार दिया था। इस हत्याकांड में मारे गए संजय के भाई रामकेश ने बताया कि नारनौंद कस्बा के बड़छप्पर गांव में फरवरी 2010 में आरोपियों ने उनके भाई की गोली मारकर हत्या कर दी थी। हमारे परिवार ने शामलाती भूमि पर गोबर डालने के लिए कुरड़ी बना रखी थी। दोषी परसराम, ओम प्रकाश इत्यादि शामलाती भूमि और कुरड़ी पर कब्जा करना चाहते थे। इस मामले में पंचायत भी हुई थी और पंचायत ने हमारे हक में ही फैसला सुनाया था। इसके बावजूद वे नहीं माने थे। रामकेश ने बताया ‎कि परसराम, ओम प्रकाश समेत अन्य दोषियों ने रात करीब 10 बजे जमीन पर फेंसिंग बनाना शुरू कर दिया। ​जब रामकेश और उसके परिवार ने इसका विरोध किया तो उनके ऊपर हमला किया गया। 
जानकारी के मुता‎बिक, इस हमले में रामकेश के सगे भाई संजय ने गोलियां लगने पर मौके पर दम तोड़ दिया था। वहीं, चचेरे भाई विनोद उर्फ मनोज की पीजीआई रोहतक में मौत हो गई थी।  वहीं, 6 अन्य गोलियां लगने पर जख्मी हुए थे। रामकेश की शिकायत पर पुलिस ने केस दर्ज किया था। दोषियों के नाम बड़छप्पर वासी परसराम और इसके पुत्र कृष्ण, माला, इसके भाई मोहन उर्फ मोहिनी, भोलू और बजिंद्र उर्फ कालू के अलावा गांव के गंगादत्त, कलम सिंह, देवी राम, सुरेंद्र उर्फ छंगा, जींद वासी सोनू और रोहतक के गांव निडाना वासी जीवना हैं। इनके खिलाफ धारा 148, 149, 307, 302 और शस्त्र अधिनियम के तहत केस दर्ज किया गया था।