गुरुग्राम । गुरुग्राम की फिरोज गांधी कॉलोनी में डेयरी संचालक मनीष की हत्या को अंजाम देने से पहले घटनास्थल से कुछ दूर बदमाश एक जूस की दुकान पर काफी देर से इंतजार कर रहे थे, लेकिन वहां पर किसी को भी पता नहीं था कि मनीष के आने के बाद उसकी वही बदमाश करेंगे। करीब 12 बजे जैसे ही मनीष कार की चाबी लेकर कार में बैठ रहा था, तभी बदमाशों ने उस पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। सिर्फ तीन मिनट में बदमाशों ने ऑटोमैटिक पिस्टल से 21 राउंड फायरिंग कर उसकी हत्या कर दी। गोलियों की आवाज सुनकर दुकानदार और लोग घरों से बाहर आ गए। जब बदमाश वापस जा रहे थे तो सभी लोग अपनी दुकानों और घरों के अंदर चले गए। हत्या की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई। पुलिस की शुरुआती जांच में सामने आया है कि बदमाशों ने रेकी कर वारदात को अंजाम दिया था। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि उन बदमाशों ने दूर सड़क पर बाइक या कार खड़ी की हुई थी। घटनास्थल से 50 मीटर दूर जूस की दुकान पर हमलावर काफी देर तक इंतजार कर रहे थे। उन्होंने कार में बैठते ही मनीष फर फायरिंग कर दी। फायरिंग कि आवाज से पूरे इलाके में दहशत का माहौल हो गया। वहीं, पिछले साल फिरोज गांधी कॉलोनी में ही क्रेटा सवार युवक पर भी दो दर्जन से अधिक फायरिंग कर उसकी हत्या कर दी गई थी। अभी तक उसके हत्यारों को भी पुलिस गिरफ्तार नहीं कर पाई है।  शुरुआती जांच में सामने आया है कि मनीष का कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं है। हाल ही में मनीष का किसी से कोई झगड़ा या फिर रंजिश की बात भी सामने नहीं आई है। पुलिस इस मामले में कई पहलुओं से जांच कर रही है। मनीष के परिजनों ने भी किसी पर हत्या का शक जाहिर नहीं किया है। बदमाशों की गिरफ्तार के बाद ही पूरे घटनाक्रम के बारे में पता चल पाएगा।