कोरबा| राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने आज कोरबा शहर स्थित जिला अस्पताल में विभिन्न नई सुविधाओं का लोकार्पण किया। राजस्व मंत्री ने इंदिरा गांधी जिला चिकित्सालय में दो यूनिट माॅड्यूलर आॅपरेशन थियेटर, 10 बिस्तरों का इमरजेंसी ट्राॅमा यूनिट, 10 बिस्तरों का आधुनिक आई.सी.यु. एवं आठ बिस्तरों का बर्न यूनिट का उद्घाटन किया। श्री अग्रवाल ने जिले के लोगों की सेवा में स्वास्थ्य सुविधाओं की बढ़ोत्तरी करते हुए अत्याधुनिक, रिमोट कंट्रोल चलित सेंसर युक्त आॅपरेशन थियेटर को जिला अस्पताल में प्रारंभ किया। इस दौरान राजस्व मंत्री ने कहा कि जिला में इन सभी सुविधाओं के शुरू हो जाने से प्राइवेट अस्पताल से बेहतर सुविधाएं आज से उपलब्ध हो गईं हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार लोगों की स्वास्थ्य सुविधाओं में लगातार बढ़ोत्तरी कर रही है। मोहल्ला क्लीनिक भी शुरू किए जाएंगे जिसका परीक्षण चल रहा है। उन्होंने कहा कि जिला खनिज न्यास मद से सबकी सलाह से विचार-विमर्श करके जनसेवा में राशि खर्च की जाती है। डीएमएफ मद को ज्यादा से ज्यादा चिकित्सा और स्वास्थ्य क्षेत्र में सदुपयोग किया जा रहा है। आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित स्वास्थ्य सुविधाओं के लोकार्पण समारोह में महापौर नगर निगम कोरबा राजकिशोर प्रसाद, सभापति नगर निगम श्याम सुंदर सोनी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. बी. बी. बोडे, सिविल सर्जन डाॅ. अरूण तिवारी सहित जिला अस्पताल के समस्त मेडिकल स्टाफ तथा गणमान्य नागरिकगण उपस्थित रहे।
राजस्व मंत्री अग्रवाल ने समस्त जिलेवासियों को बधाई देते हुए कहा कि जिन स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए बड़े शहर जाना पड़ता था तथा लाखों रूपए खर्च करने पड़ते थे अब वह सुविधाएं जिला अस्पताल में उपलब्ध है। डायलिसिस की आवश्यकता वाले मरीजों की सुविधा के लिए पांच डायलिसिस मशीन युक्त सेंटर भी जिलेवासियों के लिए निःशुल्क उपलब्ध है। आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित आॅपरेशन थियेटर शुरू किए गए हैं। दुर्घटना में जलने वाले मरीजों को पहले पांच-सात घंटे रायपुर ले जाने में समय लगता था। समय में देरी होने के कारण मरीज की जान बचाने में दिक्कत होती थी। अब जिला अस्पताल में स्थापित बर्न यूनिट के माध्यम से ऐसे मरीजों को तत्काल ईलाज की सुविधा मिल सकेगी जिससे मरीज की जान बच सकेगी। उन्हांेने कहा कि जिले में मेडिकल स्टाॅक की बढ़ोत्तरी के लिए 100 से अधिक डाॅक्टर, नर्सें, पैरामेडिकल स्टाफ की भर्ती की जाएगी जिससे लोगों को बेहतर सुविधाएं मिलेगी। उन्होंने सभी मेडिकल स्टाॅक से अनुरोध करते हुए कहा कि चिकित्सा के क्षेत्र में काम करते हुए आप लोग का फर्ज और नैतिक जिम्मेदारी यह है कि मरीजों की ईमानदारी से सेवा करें। आप लोग को यह जिम्मेदारी सेवा भाव के लिए दी गई है इसलिए मैं चाहूंगा कि आप लोग बेहतर तरीके से काम करें। आम आदमी, गरीब तथा दूरस्थ वनवासी ईलाज के लिए आते हैं उन्हें भटकना ना पड़े और सभी का उचित ईलाज किया जाए। राजस्व मंत्री ने डाॅक्टरों से कहा कि बिना वजह किसी भी मरीज को निजी अस्पताल में रिफर ना किया जाए।
       राजस्व मंत्री अग्रवाल ने कहा कि मुख्यमंत्री बघेल के द्वारा किये गये जिले के विकास कार्यों की घोषणा को त्वरित गति से आगे क्रियान्वयन करने के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया गया है। घोषणाओं को पूर्ण कराने तथा बजट में जुड़वाने और विकास की रणनिति बनाने बैठक में चर्चा की गई है। उन्होंने कहा कि जिले में बनने वाले सड़कों को सुगम तरीके से पूरा करने बैठक रणनीति बनाई गई है। श्री अग्रवाल ने कहा कि जो काम पिछले 20 वर्षों में नहीं हुआ है वह बीते दो वर्षों में हुआ है। आने वाले तीन सालों में और भी बेहतर काम होंगे। विकास कार्यों को पूरा करने में प्रभारी मंत्री टेकाम, महापौर, सभापति, कलेक्टर तथा जिले के अधिकारी-कर्मचारी लगे हुए हैं। स्कूलों में टाॅयलेट, बाउंड्रीवाॅल, छत का जीर्णोद्धार करके जिले के स्कूलों को बेहतर बना रहे हैं। बच्चों को खेल की सुविधा भी प्रदान की जा रही है। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए महापौर राजकिशोर प्रसाद ने कहा कि मुख्यमंत्री बघेल के नेतृत्व में कोरबा जिले के निवासियों को लगातार सुविधाएं मिलती रहेंगी। ईलाज से लेकर पढ़ाई तक और सड़कों से लेकर अन्य जरूरी आधारभूत सुविधाएं लोगों को उपलब्ध कराना सरकार की प्राथमिकता है। महापौर ने जिले के लोगों को बेहतर और विकसित ईलाज की सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल का भी आभार व्यक्त किया।
जिले में लगातार स्वास्थ्य सुविधाओं की हो रही बढ़ोत्तरी- कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल ने कहा कि पहले ही जिला अस्पताल में उपलब्ध स्वास्थ्य सुविधाओं के कायाकल्प के लिए पुरस्कार मिल चुका है। औद्योगिक जिला होने के कारण कोरबा जिले में माॅड्यूलर आॅपरेशन थियेटर, बर्न यूनिट, आधुनिक आई.सी.यू. यूनिट की बहुत जरूरत थी। राजस्व मंत्री के निर्देशन में सबसे ज्यादा मद स्वास्थ्य क्षेत्र में उपयोग किया जा रहा है। जिले में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं लगातार उपलब्ध कराई जा रही है। डीएमएफ के माध्यम से पैरामेडिकल स्टाफ, डाॅक्टरों सहित नवीन भर्ती की जा रही है। उन्हांेने कहा कि आगामी समय में जिले की स्वास्थ्य सुविधाओं को और भी बेहतर किया जाएगा।
अत्याधुनिक तकनीकों से सुसज्जित आॅटोमेटिक आॅपरेशन थियेटर- जिला अस्पताल में स्थापित दो नवीन माॅड्यूलर आॅपरेशन थियेटर आधुनिक सुविधाओं से लैस है। आॅपरेशन थियेटर में हाईटेक सेंसर युक्त दरवाजा लगा हुआ है। आॅपरेशन थियेटर को बैक्टेरिया और इंफेक्शन से बचाने के लिए कमरे का फ्लोर और दीवार एंटीबैक्टेरियल तत्वों से बनाया गया है। आॅपरेशन थियेटर में डिजिटल डिस्प्ले पैनल लगा हुआ है। पैनल में आॅक्सीजन सप्लाई, कमरे का तापमान, आर्द्रता तथा आॅपरेशन करते समय मरीज के शरीर की आवश्यक जानकारी प्रदर्शित होती रहेगी। जिला अस्पताल में स्थापित 10 बिस्तरों वाले नये आई.सी.यू. यूनिट भी आधुनिक तकनीकों से सुसज्जित हैं। आई.सी.यू. बेड में आॅक्सीजन सप्लाई पाइपलाइन की भी सुविधा है जिससे आईसीयू बेड में अलग से आॅक्सीजन सिलेण्डर की आवश्यकता नहीं होगी। कमरे में एंटीबैक्टेरियल पेंट से रंग-रोगन किया गया है। दुर्घटना में घायल मरीजों को तुरंत ईलाज की सुविधा मुहैया कराने आधुनिक 10 बिस्तरों वाले इमरजेंसी ट्राॅमा यूनिट की स्थापना की गई है।