अहमदाबाद | गुजरात के 6 नगर निगमों में रविवार को होनेवाले मतदान से पहले प्रदेश कांग्रेस प्रमुख अमित चावड़ा ने भाजपा के अहंकारी और भ्रष्टाचारी शासन को उखाड़ फैंकने के लिए कांग्रेस के पक्ष में वोटिंग करने की मतदाताओं से अपील की है| 6 महानगरों में 15 से 20 साल से भी अधिक समय से सत्तारूढ़ भाजपा शासक शहरी नागरिकों को मूलभूत सुविधाएं देने में पूरी तरह नाकाम रहे हैं| सत्ता पाने के लिए किए गए वादे भूलकर भाजपा शासक केवल और केवल अपने करीबियों की तिजोरी भरते रहे और जिन्होंने उन्हें वोट दिया उन नागरिकों की अवगणना की| उन्होंने कहा कि 6 नगर निगमों के मतदाताओं के वोट आगामी 5 साल का भविष्य तय करेंगे| कांग्रेस के उम्मीदवार, नेता और कार्यकर्ता जनता के बीच गए और हेलो अभियान के जरिए भी शिकायतें सुनी हैं| 6 महानगरों में करोड़ों का टेक्स भरने के बावजूद जनता परेशान हैं और बरसाती पानी, सफाई, गटर, ट्रैफिक इत्यादि समस्या से जूझ रहे हैं| बेरोजगार युवाओं में जबर्दस्त आक्रोश है और आर्थिक मंदी के माहौल जीवनयापना करना मुश्किल हो चला है| पेट्रोल-डीजल की कीमतें 100 रुपए पर पहुंच गई हैं| खाद्य तेल और गैस सिलिंडरों की कीमतें भी आसमान छू रही हैं| चावडा ने कहा कि 6 महानगरों की जनता ने है कि जो शासन उनकी फरियादें नहीं सुनते उसका अबकी बार घमंड तोड़ देंगे| जनता का जो राइट है उसके लिए जनता ने गुजराइट करने का फैसला कर लिया है| उन्होंने कहा कि मतदाताओं का वोट परिवर्तन, शहरी नागरिकों की सुविधा और भाजपा शासन का उखाड़ फैंकने के लिए होगा| 21 फरवरी को 6 महानगरों के चुनाव में कांग्रेस के पक्ष में वोट करने की अपील करते हुए विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष परेश धानाणी ने कहा कि लोगों द्वारा लोगों की ओर से और लोगों के लिए चलने वाली व्यवस्था के लिए मतदान होगा| विचार करे गुजरात, वोट करे गुजरात, सरदार पटेल का स्वाभिमानी गुजरात चाहिए या सीआर पाटील का आपराधिक गुजरात| गुजराइट करें और भाजपा के घमंड को चूर चूर करें| धानाणी ने कहा कि मतदाता सत्ता के लिए नहीं बल्कि स्वाभिमान के लिए वोटिंग करेंगे| शिक्षक बगैर स्कूल, डॉक्टर बगैर अस्पताल, भारी भरकम जुर्माना, गैस, पेट्रोल-डीजल की आसमान छूतीं कीमतें, महंगाई और मंदी के बावजूद भाजपा मजबूती के दावे करती है| उन्होंने कहा कि भाजपा शासन में सामान्य व्यक्ति को नियमों का पालन करना अनिवार्य है| यदि गलती से नियम का उल्लंघन करे तो एक हजार रुपए जुर्माना किया जाता है| दूसरी ओर भाजपा के मंत्री हों या नेता या फिर कार्यकर्ता नियमों का उल्लंघन करें तो उनके लिए कोई जुर्माना नहीं| परेश धानाणी ने कहा कि अबकी बार भी चुनाव में कांग्रेस और भाजपा के बीच ही मुकाबला है| तीसरी पार्टी को वोट देकर गुजरात के मतदाता अपने वोट बेकार नहीं करेंगे|