खेडा | मुख्यमंत्री विजय रूपाणी नेकहा कि गुजरात का विकास ही हमारी सरकार का लक्ष्य है। सबका साथ, सबका विकास मंत्र के साथ राज्य सरकार गुजरात के सर्वांगीण विकास की प्रतिबद्धता के साथ आगे बढ़ रही है। रविवार को नडियाद में खेड़ा जिले के नागरिकों के लिए पीने के पानी के लिए 81.70 करोड़ रुपए की जलापूर्ति योजना सहित 185.11 करोड़ रुपए की लागत से आकार लेने वाले 52 विकास कार्यों का शिलान्यास तथा 100.31 करोड़ रुपए के खर्च से निर्मित विकास कार्यों के लोकार्पण अवसर पर उन्होंने यह बात कही। उन्होंने कहा कि धन के अभाव में विकास का कोई कार्य रुकेगा नहीं। राज्य सरकार ने विकास कार्यों के लिए पर्याप्त वित्तीय प्रावधान किए हैं, जिससे सुव्यवस्थित आयोजन के मार्फत विकास की गति आगे बढ़ रही है। यही वजह है कि हर रोज राज्य में करोड़ों रुपए के लोकार्पण और शिलान्यास के कार्य हो रहे हैं। खेड़ा जिले में मुख्यमंत्री ने कुल 285.42 करोड़ रुपए के 129 विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास किया। उन्होंने कहा कि राज्य में 16 जनवरी से कोरोना टीकाकरण की शुरुआत होने जा रही है जिसके लिए राज्य सरकार ने सुव्यवस्थित आयोजन किया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का वर्ष 2024 तक देश के सभी घरों में नल से जल पहुंचाने का स्वप्न है। राज्य सरकार इस संकल्प को वर्ष 2022 तक साकार करने के लिए राज्य में प्रतिमाह 1 लाख घरों को नल कनेक्शन देने के लक्ष्य के साथ काम कर रही है। रूपाणी ने कहा कि किसानों को खेतों में सिंचाई के लिए रातों को जागना न पड़े उसके लिए किसान सूर्योदय योजना के दूसरे चरण का राज्य में प्रारंभ किया गया है। इस माह के अंत तक 4000 गांवों को कृषि कार्यों के लिए दिन के दौरान बिजली मिलने लगेगी। उन्होंने कहा कि राज्य में इंजीनियरिंग कौशल के जरिए किसानों को सिंचाई तथा नागरिकों को शुद्ध पेयजल पहुंचाने का भगीरथ कार्य सरकार ने किया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के शासनकाल में केवल 26 फीसदी लोगों को ही नल से पानी मिलता है। आज राज्य में 82 फीसदी लोगों को नल से जल मिल रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी के बीच भी राज्य की अविरत विकास यात्रा जारी है। राज्य में 25 हजार करोड़ रुपए के विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास किया गया है। गुजरात आज पूरे देश का रोल मॉडल बना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले कांग्रेस के दौर में गुजरात का कुल बजट मात्र आठ हजार करोड़ रुपए था जबकि वर्ष 2020 का हमारी सरकार का बजट 2 लाख 10 हजार करोड़ रुपए है। इससे पूर्व जलापूर्ति विभाग को केवल 400 करोड़ रुपए आवंटित किए जाते थे, उसके समक्ष हमारी सरकार ने प्रत्येक विभाग को कम से कम 15 हजार करोड़ रुपए आवंटित किए हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में विकास कार्यों के लिए धन का कोई सवाल ही नहीं है। अतीत में कांग्रेस के शासन में सरकारी खजाने पर भ्रष्टाचार के छेद थे और भ्रष्टाचार का पंजा उस पर डाका डालता था जिसके परिणामस्वरूप विकास बाधित हुआ था। हमारी सरकार ने जनता के पसीने के एक-एक रुपए का सदुपयोग कर ईमानदार और पारदर्शी प्रशासन के मार्फत राज्य में विकास के कार्य किए हैं। रूपाणी ने कहा कि अतीत में कांग्रेस के शासनकाल में केंद्र से निकला 1 रुपया लोगों तक पहुंचते-पहुंचते 15 पैसे रह जाता था, 85 पैसे पंजे से घिस जाते थे। लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी केंद्र से 1 रुपया भेजते हैं और पूरा एक रुपया विकास कार्यों में खर्च होता है। बरसों तक देश में शासन करने वाली कांग्रेस पार्टी पर प्रहार करते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने लोगों तक बुनियादी जरूरतों की सुविधाएं भी नहीं पहुंचाई। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सक्षम नेतृत्व में आज देश के प्रत्येक घर में शौचालय, बिजली, गैस और आवास जैसी मूलभूत जरूरतें पहुंचाई गई हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने किसानों के लिए व्यापक निर्णय करते हुए ‘सात पगला खेड़ूत कल्याण ना’ यानी किसान कल्याण की दिशा में सात कदम योजना लागू करने के साथ ही 17 हजार करोड़ रुपए की उपज किसानों से समर्थन मूल्य पर खरीदी। उन्होंने कहा कि महिलाओं को स्वावलंबी बनाने के लिए राज्य की दस लाख सखी मंडलों की महिलाओं को 1 लाख रुपए का कर्ज शून्य फीसदी ब्याज दर पर देने की मुख्यमंत्री महिला उत्कर्ष योजना लागू की है। राज्य के शहरों में दूषित पानी को शुद्ध करने के लिए सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट स्थापित किए जा रहे हैं। इसके तहत गटर के गंदे पानी को शुद्ध कर किसानों को सिंचाई के लिए तथा औद्योगिक उपयोग के लिए दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने कानून व्यवस्था की परिस्थिति को ज्यादा प्रभावी बनाने के लिए गुंडा एक्ट, लैंड ग्रेबिंग एक्ट बनाया है। यही नहीं, राज्य में भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए एंटी करप्शन के कानून को ज्यादा मजबूत बनाया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में राजस्व सेवाओं को अधिक पारदर्शी बनाने के लिए उन सेवाओं को ऑनलाइन किया गया है। हमारी सरकार ने कार्य प्रणाली में बदलाव किया है जिससे राज्य में विकास कार्य सुव्यवस्थित तरीके से आगे बढ़ रहा है। राज्य के सरकारी कार्यालयों को कॉर्पोरेट ऑफिसों जैसा लुक दिया जा रहा है। 
गुजरात विधानसभा के मुख्य दंडक पंकजभाई देसाई ने कहा कि खेड़ा जिले में विभिन्न विकास कार्यों के लोकार्पण और शिलान्यास से जिले के विकास को गति मिलेगी। नड़ियाद के लोगों को आगामी मार्च महीने से जल शुद्धिकरण प्लांट का शुद्ध पेयजल मिलने लगेगा। नड़ियाद में बरसाती पानी की निकासी के लिए भी कार्य जारी है। जिला पंचायत अध्यक्ष नयनाबेन पटेल ने कहा कि ठासरा-गळतेश्वर समूह जलापूर्ति योजना के साकार होने पर 37 गांवों, 86 उपनगरीय इलाकों की 1.25 लाख आबादी शुद्ध पेयजल मिलेगा। सांसद देवुसिंह चौहान ने मुख्यमंत्री विजय रूपाणी की सहजता और सरलता की तारीफ करते हुए कहा कि खेड़ा जिले को आधारभूत विकास कार्यों की सौगात तो मिली ही है, लेकिन कोरोना काल में त्वरित निर्णय लेकर गरीब और जरूरतमंदों की बहुत बड़ी सेवा की है।