दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान फाफ डुप्लेसी ने टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले लिया है। डुप्लेसी ने सोशल मीडिया पर कहा कि वह खेल को अलविदा कह रहे हैं और यह उसके लिए सही समय है। डुप्लेसी ने अपने आधिकारिक इंस्टाग्राम पर लिखा कि मेरा दिल इस फैसले को लेकर पूरी तरह स्पष्ट है। यह नई शुरुआत करने के लिए बिल्कुल सही समय है। डुप्लेसी ने दक्षिण अफ्रीका के लिए 69 टेस्ट में 40 से कुछ ज्यादा की औसत से 4163 रन बनाए थे। उन्होंने इस प्रारुप में कुल 10 शतक और 21 अर्धशतक लगाए थे। डुप्लेसी ने लिखा, ''यह हम सभी के लिए कठिनाई से लड़कर आगे बढ़ने वाला साल रहा। कभी अनिश्चितता भी रही, पर इससे कई पहलुओं को लेकर मेरी स्पष्ट राय बनी। मेरा दिल साफ है और यह नए अध्याय की शुरुआत करने के लिए सही समय है।''
उन्होंने कहा, ''खेल के सभी प्रारूपों में देश का प्रतिनिधित्व करना सम्मान है, पर अब मेरे लिए टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेने का समय आ गया है।'' डुप्लेसी ने कहा, ''अगले दो साल आईसीसी टी20 विश्व कप होगा। इस वजह से मैं अपना ध्यान इस प्रारूप पर केंद्रित कर रहा हूं।'' उन्होंने पिछले साल दक्षिण अफ्रीका के टेस्ट और टी20 कप्तान का पद छोड़ दिया है। उन्होंने साल 2016 में एबी डिविलियर्स से यह जिम्मा संभाला था। डुप्लेसी ने हाल में ही पाकिस्तान के खिलाफ दो टेस्ट की सीरीज खेले थे पर अधिक रन नहीं बना पाये। उन्होंने पहले टेस्ट में 33 और दूसरे में 22 रन बनाए थे। दोनों ही टेस्ट में मेजबान टीम ने दक्षिण अफ्रीका को हराया था। इसके बाद से ही उनके फॉर्म को लेकर सवाल उठ उठने लगे थे। हालांकि, उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ दो महीने पहले हुई घरेलू टेस्ट सीरीज में शानदार बल्लेबाजी की थी। सेंचुरियन में हुए पहले टेस्ट की पहली पारी में उन्होंने 199 रन बनाए थे। यह उनके टेस्ट करियर का सर्वाधिक स्कोर भी था। दक्षिण अफ्रीका यह टेस्ट पारी और 45 रन से जीता था.
दक्षिण अफ्रीका को अगले महीने घरेलू टेस्ट सीरीज में ऑस्ट्रेलिया की मेजबानी करनी थी, लेकिन क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने दक्षिण अफ्रीका में कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए यह दौरा टाल दिया था. दोनों देशों के बीच तीन टेस्ट की सीरीज होनी थी. डुप्लेसी यह सीरीज खेलने के बाद ही संन्यास लेना चाहते थे, लेकिन आखिरी वक्त में ऑस्ट्रेलिया दौरा टलने के बाद उन्होंने संन्यास का ऐलान कर दिया. दक्षिण अफ्रीका के इस पूर्व कप्तान ने कहा कि मैं आगामी ऑस्ट्रेलिय़ा दौरे से अपना टेस्ट करियर खत्म करना चाहता था. मेरे लिया यह ऐसा ही था कि जिंदगी घूमकर एक जगह आ गई हो. दरअसल उन्होंने 2012 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एडिलेड में अपने टेस्ट करियर की शुरुआत की थी. उन्होंने कहा कि मेरे करियर का अंत वैसा नहीं रहा, जैसा मैंने सोचा था, फिर भी मेरी सोच साफ है कि यह फैसला लेने का यही सही वक्त था. डुप्लेसी ने 2016 से 2019 तक टेस्ट में दक्षिण अफ्रीका टीम की कमान संभाली थी. लेकिन फिर खराब फॉर्म की वजह से उन्हें हटाकर विकेटकीपर बल्लेबाज क्विंटन डी कॉक को टीम का कप्तान बनाया गया. डुप्लेसी की कप्तानी में दक्षिण अफ्रीका ने ऑस्ट्रेलिया को 2018 में टेस्ट सीरीज हराई थी।