टोक्यो । आगामी टोक्यो ओलंपिक खेलों के शुरू होने में अब 200 से कम दिन बचे हैं। ऐसे में इसकी तैयारियां जोरों पर हैं। जापानी प्रधानमंत्री योहिहिदे सुगा ने कहा कि वह कोरोना वायरस संक्रमण के नये मामले सामने आने के बाद आपातकाल की स्थिति पर भी विचार कर रहे हैं। उनके अनुसार ओलंपिक के आयोजकों, अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति और जापानी सरकार के विभिन्न विभागों के लिये अब ठोस फैसले करने का समय करीब आ गया है। अधिकारियों ने वादा किया था कि वे ओलंपिक और परालंपिक में भाग लेने वाले 15,000 खिलाड़ियों के जापान पहुंचने, खेल गांव तथा लाखों प्रशंसकों, मीडिया, जजों, अधिकारियों, प्रशंसकों और अति विशिष्ट व्यक्तियों की सुरक्षा को लेकर ठोस योजना घोषित करेंगे। अब नया साल भी शुरू हो चुका है। सुगा ने फिर से ओलंपिक आयोजन का वादा करते हुए कहा कि यह इस बात का प्रमाण होगा कि लोग कोरोना वायरस से उबर चुके हैं। 
उन्होंने कहा कि टीके को जल्द ही मंजूरी दी जाएगी ताकि टीकाकरण का काम मार्च के बजाय फरवरी से शुरू हो सके। जापान में कोविड-19 के कारण 3400 लोगों की जानें गयी लेकिन नये मामलों में तेजी से बढ़ोतरी चिंता का विषय है। पिछले महीने राष्ट्रीय प्रसारक एनएचके ने एक सर्वे कराया था जिसमें 63 फीसदी लोगों ने ओलंपिक को स्थगित या रद्द करने के पक्ष में राय दी थी। टोक्यो ओलंपिक का आधिकारिक बजट पिछले महीने 15.4 अरब डॉलर आंका गया। इसमें आयोजन में देरी के कारण 2.8 अरब डॉलर की बढ़ोतरी हुई है। हालांकि पिछले साल सरकारी अनुमान लगाया गया था कि ओलंपिक खेलों का बजट लगभग 25 अरब डॉलर तक जाएगा। आयोजन समिति के अध्यक्ष योशिरो मोरी ने संकेत दिये हैं कि 23 जुलाई को होने वाले उदघाटन समारोह में परेशानी हो सकती है क्योंकि हजारों खिलाड़ियों और अधिकारियों को स्टेडियम और उसके आसपास जमा होना है। उन्होंने इसके साथ ही कहा कि समारोह को छोटा भी नहीं किया जा सकता है क्योंकि टेलीविजन प्रसारकों ने पहले ही इसके लिये भुगतान कर दिया है।