चंडीगढ़. केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ सिंघू बॉर्डर (Singhu Border) पर प्रदर्शन में भाग ले रहे पंजाब के 40 वर्षीय एक किसान ने शनिवार शाम को जहरीला पदार्थ खाकर कथित रूप से आत्महत्या (Sucide) कर ली. हरियाणा पुलिस (Haryana Police) ने यह जानकारी दी है. सोनीपत के कुंडली पुलिस थाने में निरीक्षक रवि कुमार ने बताया कि किसान अमरिंदर सिंह पंजाब के फतेहगढ़ साहिब जिले का निवासी था. किसान को सोनीपत के स्थानीय अस्पताल ले जाया गया, जहां उसकी मौत हो गई.

एक और किसान ने की आत्महत्या

उल्लेखनीय है कि नए कृषि कानूनों के खिलाफ देश के विभिन्न हिस्सों, खासकर पंजाब और हरियाणा के किसान दिल्ली की सीमाओं पर पिछले एक महीने से भी अधिक समय से प्रदर्शन कर रहे हैं.

सिख उपदेशक संत राम सिंह ने भी की थी खुदकुशी

बीते साल दिसंबर महीने के आखिरी सप्ताह में सिंघू सीमा पर ही सिख उपदेशक संत राम सिंह ने कथित तौर पर खुदकुशी कर ली थी. केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान 40 दिनों से सिंघू बॉर्डर समेत दिल्ली की अनेक सीमाओं पर डेरा डाले हैं.

अब तक आठ राउंड की बैठक बेनतीजा रही है

गौरतलब है कि केंद्र सरकार के साथ किसानों की अब तक 8 राउंड की बातचीत के बावजूद अब तक कोई सहमति नहीं बन पाई है. पीएम मोदी औऱ गृह मंत्री अमित शाह ने किसानों के साथ किसी भी तरह के गतिरोध को दूर करने की बात भी कही है. किसानों के प्रतिनिधियों से उनकी मांगों पर चर्चा के लिए कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और रेल मंत्री पीयूष गोयल लगातार किसानों से मिल रहे हैं.