अजमेर । राजस्थान में शनिवार को 167 केंद्रों पर टीकाकरण की शुरुआत की गई। अजमेर के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ वीबी सिंह को पहला टीका लगाया गया। टीकाकरण शुरू होने पर खुशी जताते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा, 'सभी को इस दिन का बेसब्री से इंतजार था। आखिरकर, टीका आ गया। प्रदेश के हर व्यक्ति को टीका लगाने में एक से डेढ़ साल का समय लगेगा। तब तक, हमें कोरोना से संबंधित प्रोटोकॉल का पालन करना जारी रखना होगा। 
  राजस्थान में कई जगह वैक्सीन लगने के बाद जयपुर के एसएमएस अस्पताल में पौने 2 घंटे बाद वैक्सीनेशन शुरू हुई। यहां चार व्यक्तियों को एक साथ टीका लगाया जाना था, लेकिन एसएमएस प्रिंसिपल सुधीर भंडारी को टीका लगाने के बाद सभी मुख्यमंत्री की वीसी में जुड़ गए। हालांकि कुल 4 मिनट में पहले टीके की प्रोसेस पूरी हो गई है। जयपुर के 21 सेंटरों पर हेल्थ वर्कर्स को कोरोना वैक्सीन लगाई गई।  वैक्सीनेशन की कलेक्टर व क्षेत्रवार एडीएम मॉनिटरिंग कर रहे हैं। तैयारियों को लेकर कलेक्ट्रेट में कलेक्टर अंतर सिंह नेहरा ने चिकित्सा अधिकारियों व जिला प्रशासन के साथ बातचीत कर किसी भी तरह की कोताही नहीं बरतने के निर्देश दिए। एसएमएस अस्पताल, एसएमएस मेडीकल कॉलेज, एसआर गोयल सेठी कॉलोनी अस्पताल, जेके लोन अस्पताल, एसडीएमएच अस्पताल, बीडीएम अस्पताल कोटपूतली, जनाना अस्पताल, मनीपाल अस्पताल, महिला चिकित्सालय, जयपुर अस्पताल (लाल कोठी), ईएचसीसी अस्पताल, फोर्टिस अस्पताल, जयपुरिया अस्पताल, महात्मा गांधी अस्पताल, आरयूएचएस प्रताप नगर, ईएसआई अस्पताल, कावंटिया अस्पताल, गणगौरी अस्पताल, मेट्रोमास अस्पताल, नारायणा ह्रदालय अस्पताल और जयपुर नेशनल यूनिवर्सिटी में टीके लगाए गए।