पटना|  राजद नेता और बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने फेसबुक लाइव पर युवा संवाद में कहा कि डबल इंजन की सरकार से  लोग ऊब चुके हैं। बिहार के लोग बदलाव चाहते हैं और बदलाव होकर रहेगा। दस लाख नौकरी, समान काम-समान वेतन, उर्दू शिक्षक, आंगनबाड़ी सहायिका व अन्य का मानदेय बढ़ाने और नियमित करने जैसे अन्य मुद्दों पर लोगों ने जोरशोर से मतदान किया है और आगे भी होगा।
तेजस्वी ने कहा, नीतीश कुमार ने पूर्णिया में आखिरी चुनाव सभा में खुद कह दिया है कि यह उनका अंतिम चुनाव है। वह राजनीति से संन्यास लेने जा रहे हैं। अब बिहार की जनता उन्हें पांच साल औऱ देकर वोट खराब नहीं करने वाली है। नौजवान, मजदूर-किसान, व्यवसायी, बुजुर्ग और महिलाएं सभी बदलाव की बयार के साथ हैं। तेजस्वी ने कहा कि नीतीश कुमार इतिहास के बासी पन्नों में सिमट चुके हैं।  उनके शासन में बिहार में बेरोजगारी 46.6 फीसदी पर पहुंच गई है।
तेजस्वी ने आरोप लगाया कि 60 घोटालों के जरिये 30 हजार करोड़ का नुकसान हुआ है। आज भी बिहार में ग्रेजुएशन करने में 3 साल से ज्यादा वक्त लगता है। नीतीश ने विशेष राज्य का दर्जा और विशेष पैकेज देने का वादा किया था। वो भी आज तक बिहार को नहीं मिला। जंगलराज पर सत्तापक्ष की आलोचना का जवाब देते हुए तेजस्वी ने कहा कि उनकी पार्टी सत्ता में आती है तो बिहार में कानून का राज होगा। कोई भी दोषी बख्शा नहीं जाएगा।
तेजस्वी ने कहा कि चुनाव में हमने बिजली की दरों को आधा करने, कृषि ऋण माफ करने, बजट का 22 फीसदी शिक्षा पर खर्च करने की बात की। राजद ने किसान आयोग, व्यवसाय आयोग, खेल आयोग बनाने की बात कही है। हमने सरकारी नौकरी में स्थानीय नीति लागू करने की बात कही है। स्थानीय युवाओं को स्थानीय नौकरी में 85 फीसदी आरक्षण दिया जाएगा।