कोलकाता । रत्न एवं आभूषणों का कुल निर्यात दिसंबर, 2020 में 6.33 प्रतिशत बढ़कर 2.49 अरब डॉलर पर पहुंच गया। इससे पिछले साल समान महीने में यह 2.35 अरब डॉलर रहा था। रत्न एवं आभूषण निर्यात संवर्द्धन परिषद (जीजेईपीसी) के चेयरमैन कोलिन शाह ने इसकी जानकारी दी। रुपये में क्षेत्र का निर्यात दिसंबर में 9.2 प्रतिशत बढ़कर 18,261 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। शाह ने बताया कि चालू वित्त वर्ष के पहले नौ माह अप्रैल-दिसंबर में रत्न एवं आभूषणों का कुल निर्यात 39.98 प्रतिशत घटकर 16.53 अरब डॉलर रहा है।इसके पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में यह 27.54 अरब डॉलर रहा था। शाह ने कहा, पिछले दो माह के दौरान निर्यात में उल्लेखनीय सुधार हुआ है। यदि यह रुख जारी रहता है कि चालू वित्त वर्ष में निर्यात में गिरावट घटकर 20 से 25 प्रतिशत रह जाएगी। 
दिसंबर, 2020 में तराशे और पालिश हीरों (सीपीडी) का निर्यात 38.47 प्रतिशत बढ़कर 1.74 अरब डॉलर पर पहुंच गया, जो इससे पिछले वित्त वर्ष के समान महीने में 1.25 अरब डॉलर रहा था। चालू वित्त वर्ष के पहले नौ माह में सीपीडी का निर्यात 27.13 प्रतिशत घटकर 10.69 अरब डॉलर रहा। समीक्षाधीन महीने में सोने के आभूषणों का निर्यात 35.06 प्रतिशत घटकर 50 करोड़ डॉलर रहा। एक साल पहले समान महीने में यह 77 करोड़ डॉलर रहा था। अप्रैल-दिसंबर के दौरान सोने के आभूषणों का निर्यात 67.30 प्रतिशत घटकर 3.02 अरब डॉलर रह गया, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में 9.23 अरब डॉलर रहा था। दिसंबर, 2020 में रंगीन रत्नों का निर्यात भी 50.26 प्रतिशत घटकर 12 करोड़ डॉलर रह गया, जो इससे पिछले वित्त वर्ष के समान महीने में 24 करोड़ डॉलर रहा था। शाह ने कहा कि अप्रैल, 2020 से दिसंबर, 2020 के दौरान चांदी के आभूषणों का निर्यात मजबूत रहा है। यह 50.66 प्रतिशत बढ़कर 1.5 अरब डॉलर पर पहुंच गया।