नई दिल्ली | पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का बड़ा बयान सामने आ रहा है। उन्होंने कहा, "यह अफसोसनाक मुद्दा है और कीमतें में कमी के अलावा कोई भी जवाब लोगों को संतुष्ट नहीं कर सकता। केंद्र और राज्य दोनों को उपभोक्ताओं के लिए उचित स्तर पर खुदरा ईंधन मूल्य में कमी लाने के लिए बात करनी चाहिए ।" चेन्नई में वित्त मंत्री ने कहा कि OPEC देशों ने उत्पादन का जो अनुमान लगाया था, वह भी नीचे आने की संभावना है जो फिर से चिंता बढ़ा रहा है। तेल के दाम पर सरकार का नियंत्रण नहीं है। इसे तकनीकी तौर पर मुक्त कर दिया गया है तेल कंपनियां कच्चा तेल आयात करती हैं , रिफाइन करती हैं और बेचती हैं।

बता दें आज केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने भी कहा है कि पेट्रोल और डीज़ल के दाम वैश्विक बाज़ार तय करता है, हमने महंगाई कम करने के लिए समय-समय पर दाम घटाया है। भारत सरकार इनके दाम घटाने के लिए कृतसं​कल्पित रहती है। वहीं विपक्ष पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दाम को लेकर केंद्र सरकार पर हमलावर है। पेट्रोल-डीज़ल की कीमतों में बढ़ोतरी पर AAP नेता राघव चड्ढा कहते हैं, " प्रवक्ता भारतीय जनता पार्टी जिस प्रकार से इस देश को लूट रही है, जिस प्रकार से गरीब लोगों की कमर तोड़ रही है और लोगों की जेब पर डाका डाल रही है, मुझे नहीं लगता है इस देश के इतिहास में इस तरह से किसी भी सरकार ने किया होगा।"

ईंधन पर सबसे ज्यादा वैट वसूलने वाले राज्य राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों को जिम्मेदार ठहराया है। वहीं उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सरकार पर हमला बोलते हुए कहा, " जिस समय पेट्रोल-डीज़ल महंगा हो जाता है,उसी समय महंगाई बढ़ जाती है। महंगाई बढ़ाकर इन्होंने पूरे मध्यम वर्ग,गरीब, किसान,नौजवान सबके ऊपर भार डाला है। BJP ने इतनी महंगाई कर दी कि गरीब ये सोच रहा है कि हम बचाएं क्या..खाएं क्या? और वो तर्क दे रहे हैं कि इससे देश बनेगा।"
बता दें  पेट्रोल-डीजल की कीमतों में आज भी कोई राहत नहीं मिली है। आज लगातार 12वें दिन तेल के दाम में  बढ़ोतरी हुई है। शनिवार को दिल्ली में पेट्रोल 39 पैसे प्रति लीटर चढ़ कर 90.58 रुपये पर चला गया। डीजल भी 37 पैसे का छलांग लगा कर 80.97 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच गया। राजस्थान के श्रीगंगानगर में पेट्रोल 101.22 पर नॉटआउट है तो वहीं मध्य प्रदेश के भोपाल में अपने पहले शतक से केवल 40 पैसे दूर है। हालांकि अनूपपुर जिले में सामान्य पेट्रोल की कीमत पहले ही 100 रुपये का आंकड़ा पार चुकी है। आज यहां 100.98 रुपये लीटर बिक रहा है।

ब्रांडेड पेट्रोल 104 रुपये तो डीजल  96.90 रुपये लीटर
राजस्थान और मध्यप्रदेश में ब्रांडेड पेट्रोल पहले से ही 100 के पार बैटिंग कर रहा है। श्रीगंगानगर में ब्रांडेड पेट्रोल 104 रुपये तो डीजल  96.90 पैसे लीटर है। वहीं भोपाल में यही पेट्रोल 101.51 रुपये लीटर है। देखें देश के प्रमुख शहरों में आज किस भाव पर बिक रहा पेट्रोल और डीजल...

शहर का नाम पेट्रोल रुपये/लीटर

डीजल रुपये/लीटर

श्रीगंगानगर 101.22 93.23
इंदौर 98.69 89.34
भोपाल 98.6 89.23
जयपुर 97.1 89.44
मुंबई 97 88.06
पुणे 96.64 86.38
बेंगलुरु 93.61 85.84
पटना 92.91 86.22
चेन्नई 92.59 85.98
कोलकाता 91.78 84.56
दिल्ली 90.58 80.97
लखनऊ 88.86 81.35
रांची 88.08 85.6
चंडीगढ़ 87.16 80.67


साल 2021 में पेट्रोल अब तक 6.46 रुपये महंगा हो चुका है। हालांकि, जनवरी और फरवरी में महज 24 दिन ही पेट्रोल-डीजल के रेट बढ़े। वहीं इन्हीं 24 दिनों में डीजल 06.77 रुपये प्रति लीटर महंगा हो चुका है।  पिछले 10 महीने में ही इसके दाम में करीब 17 रुपये की बढ़ोतरी हो चुकी है।